किया है प्यार जिसे हमने ज़िन्दगी की तरह
वो आशना भी मिला हमसे अजनबी की तरह

 

किसे ख़बर थी बढ़ेगी कुछ और तारीकी 
छुपेगा वो किसी बदली में चाँदनी की तरह

 

बढ़ा के प्यास मेरी उस ने हाथ छोड़ दिया 
वो कर रहा था मुरव्वत भी दिल्लगी की तरह

 

सितम तो ये है कि वो भी ना बन सका अपना
कूबूल हमने किये जिसके गम खुशी की तरह

 

कभी न सोचा था हमने "क़तील" उस के लिये 
करेगा हमपे सितम वो भी हर किसी की तरह

-क़तील शिफाई

 

Add comment


Security code
Refresh