1.      न था कुछ तो ख़ुदा था, कुछ ना होता तो ख़ुदा होता
डुबोया  मुझको  होने  ने,  ना  होता  मैं  तो  क्या  होता ?

2.      हुआ जब ग़म से यूं बेहिस तो ग़म क्या सर के कटने का
ना  होता  गर जुड़ा  तन  से तो  ज़ानूं पर धड़ा होता

[ बेहिस = shocked/stunned; ज़ानूं = knee ]

3.      हुई मुद्दत के  'ग़ालिब' मर गया पर याद आता है
वो हर इक बात पे कहना, के यूं होता  तो क्या होता ?

[ मुद्दत = duration/period]

 

Add comment


Security code
Refresh